हवाई लाल के किस्से कारनामे 2 : शेर का शिकार (kisse karname)

हवाई लाल के किस्से कारनामे 2 : शेर का शिकार (kisse karname)

Spread the love

Hawaai lal ke kisse karname in hindi : Sher ka shikaar -अपने हवाई लाल को कभी-कभी लंबी छोड़ने की बहुत आदत थी। अक्सर वो इतनी लंबी लंबी हाँक देते थे कि बाद में लोग उनका मजाक उड़ाते थे; जिससे उन्हें शर्मिंदगी उठानी पड़ती थी।


आख़िरकार इस शर्मिंदगी से बचने का उन्होंने एक उपाय सोचा। उन्होंने अपने पास एक नौकर रख लिया। उन्होंने नौकर को कहा कि उसका बस एक ही काम है कि जब भी वह कहीं अपने किस्से और कारनामे सुनाने लगें और नौकर को लगे कि कुछ ज्यादा ही लंबी हाँक दी है तो वह हौले से खांस दे, जिससे हवाई लाल को समझ आ जाए और वे अपनी लंबी हाँकी बात को संभाल लें।


तो साहब एक दिन हुआ क्या कि हवाई लाल के आसपास दोस्तों का जमघट लगा था और हवाई लाल ने मूड में आकर अपनी किस्से सुनाने शुरू कर दिए…


हवाई लाल बोले “ भाई साहब शिकार तो हमने किया था । हमसे बड़ा शिकार भला किसने करा होगा! एक बार मैं शिकार पर गया था। मैं एक पेड़ के पीछे खड़ा था कि वहां मेरे सामने आ गया एक शेर…! अजी शेर भी क्या… होगा कम से कम 30 फुट का..।“


“ख ख ख”, नौकर हल्के से खांसा, हवाई लाल सम्भले और बोले “मैंने जरा ग़ौर से देखा तो देखा कि कम से कम 25 फुट का तो वह पक्का था।“


“ख ख ख”, नौकर ख़ाँसा, हवाई लाल ने नौकर को देखा और बोले “शेर को देखकर मैंने गोली चला दी। शेर वहीं ढेर हो गया जब वह गिर गया तब मैंने ज़रा और गौर से नज़र दौड़ाई, साहेबान कम से कम 20 फुट का शेर तो था ही था।“


“ख ख ख”, नौकर फ़िर खांसा। हवाई लाल थोड़ा संभलते हुए बोले ”फिर मैं उसके पास पहुंचा तो पता चला कि साहब ना कुछ ना कुछ में भी पट्ठा 18 फुट का तो होगा ही।“


“ख ख ख”, नौकर फिर से खाँसा। हवाई लाल नौकर की ओर घूरते हुए बोले “अब मैंने अपना नापने का फीता निकाला और जब बाबूजी जब उसे नापा है तो पता चलता है कि शेर वास्तव में 16 फ़ूट का था।“

hawaai lal ke kisse : sher ka shikaar


“ख ख ख” नौकर फ़िर खांसा।

अब हवाई लाल का सबर का बांध टूट गया उन्होंने झल्लाते हुए नौकर से कहा “भाई अब तू कितना भी खाँस ले शेर इससे छोटा नहीं हो सकता अब तो मैंने शेर नाप लिया…. “

किस्से कारनामे कहानी नन्हे पन्ने