आज फिर अंधड़ चला, पेड़ की डाली गयी

आज फिर अंधड़ चला, पेड़ की डाली गयी

Spread the love


आज फिर अंधड़ चला, पेड़ की डाली गयी,
वक्त ने जो भी थी मुमकिन, चाल हर टेढ़ी चली,
बाखुदा जुल्मी की हर चाल तिरछी, पर मगर खाली गयी।
वक्त कहता , टूट जा…बिखर भी जा,
पर मेरे होठों से न, मेरी हंसी मतवाली गयी |

नन्हे पन्ने